सबसे आसान तरीका बाजार जैसे काला जामुन बनाने का – Kala Jamun in Hindi

काला जामुन वैसे तो गुलाब जामुन जैसा ही रहता है. यहां रसीला और बहुत ही स्वादिष्ट होता है. काला जामुन भारत का एक फेमस मिठाई है. यहां हर हलवाई की दुकान पर हमें आसानी से मिलता है. यहां एक पारम्परिक और लाजवाब मिठाई है. इसका स्वाद सभी लोग को पसंद आता है.

यहां एक ऐसी मिठाई है. जिसे हम एक बार बना कर एक हफ्ते तक फ्रिज में रख कर इसका सेवन कर सकते हैं. अगर आपके घर में कोई मेहमान आने वाले हैं या कुछ पार्टी है उनके लिए बहुत कम समय में इसे बनाकर उन्हें सर्व कर सकते हैं. यहां बहुत सिंपल मिठाई है.

जिसे हम आसानी से अपने घर पर बना सकते हैं. इसके बहुत लोग शौकीन है और इसे बहुत सारे लोग पसंद करते हैं. इसका स्वाद मीठा और रसीला होता है. इसी के कारण यहां हर किसी को पसंद आता है.

आज हम आपको इसे बनाने का तरीका बता रहे हैं. यहां भारत में बहुत प्रसिद्ध मिठाई में से एक है. बहुत से मिठाई की दुकानों पर केवल काला जामुन ही प्रसिद्ध है. आप इस पोस्ट को अच्छे से पढ़ कर इसे बहुत ही आसानी के साथ बना सकते हैं. तो आइए देखते हैं इसे बनाने का तरीका.

इस तरीके से गुलाब जामुन बनाओगे तो कभी खराब नही बनेंगे

इस तरीके से आप जलेबी बनाएंगे तो बिल्कुल खराब नहीं बनेगी

काला जामुन बनाने की सामग्री

खोया/मावा  250 ग्राम

पनीर 100 ग्राम 

मैदा  3 चम्मच 

दूध  1 चम्मच

तेल या घी जरूरत के अनुसार 

चाशनी बनाने के लिए 

चीनी  2 कप 

पानी  2 कप

गुलाब जल  1 चम्मच

नींबू का रस  ¼ चम्मच 

इलायची पाउडर  ½ छोटा चम्मच

केसर के दाने  10-12 

काला जामुन बनाने की विधि – Kala Jamun in Hindi

सबसे पहले हमें काला जामुन बनाने के लिए एक बर्तन लेकर खोया को अच्छी तरह से मैश कर लीजिए.

फिर पनीर को कद्दू कस करें और इस पनीर को मैदे के साथ खोए में मिला लीजिए.

अब खोए के मिक्सचर में 1 चम्मच दूध डालकर इस सारी सामग्री को अच्छी तरह मिलाकर आटे की तरह गूंद कर लीजिए.

अब इस मिश्रण के छोटी-छोटी बॉल्स बना लीजिए.

तैयार बॉल्स को एक कपड़े से ढककर रख दीजिए.

अब चाशनी बनाने के लिए एक पैन लेकर इसमें 2 कप चीनी और 2 कप पानी डालकर इसे मीडियम आंच पर रखकर पकने दीजिए.

चीनी पानी में घुल जाए तब उसमें नींबू का रस डालकर मिलाएं.

जब चाशनी एक तार की बनने लगेंगी तो इसे हल्का सा गाढ़ा करने के बाद गैस को बंद कर दें.

अब एक कड़ाही लेकर उसमें तेल गर्म करें और धीमी आंच पर तैयार बॉल्स को सुनहरा भूरा होने तक तल लीजिए.

फ्राई किए हुए जामुनों को गरम-गरम ही चाशनी में डाल लीजिए.

अब इन जामुनों को ठंडा होने के बाद फ्रिज में रखिए.

अब हमारा काला जामुन बनकर तैयार है. ऊपर से केसर के दाने डालें. जब भी सर्व करें इन्हें हल्का गर्म या ठंडा आपके इच्छा अनुसार खा सकते हैं.

काला जामुन का अर्थ क्या है?

काला जामुन या गुलाब जामुन इसमें बस थोड़ा सा अंतर है  कि काला जामुन को तेल में तलते समय  थोड़ा गहरा ब्राउन कलर किया जाता है. और गुलाब जामुन को थोड़ा हल्का सा ब्राउन किया जाता है. काले जामुन के घोल में चीनी मिला कर लेप करने से ये गोले काले हो जाते हैं.

काला जामुन कितने समय तक रहता है?

काला जामुन और गुलाब जामुन बिना फ्रिज में रखें 1 हफ्ते तक रख सकते हैं. अगर हम इसे फ्रिज में रखते हैं थोड़े ज्यादा दिन रख सकते हैं. जो बाजार में जैसे कि हल्दीराम  गुलाब जामुन इसका इस्तेमाल हम 6 महीने तक कर सकते हैं. इस पर मैन्युफैक्चरिंग डेट लिखा हुआ रहता है.

गुलाब जामुन क्या भाव है?

गुलाब जामुन का भाव साधारण में ₹400 से लेकर ₹500 किलो रहता है. और काले जामुन का भी  भाव इतना ही रहता है.  यदि गुलाब जामुन कुछ बड़े दुकानों पर घी से बनाई जाती है तो इसका भाव ₹600 से ₹800 के करीब रहता है.

kitchen hindi
kitchen hindi
Articles: 269

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x